शनिवार, 23 फ़रवरी 2019

नवगीत- सुनो राम जी स्व. कुमार रवींद्र

थाती: 
ये रचना कुमार रवींद्र की अन्तिम दो रचनाओं में से एक है जिसे मैं उनके मित्रों के अवलोकनार्थ डाल रही हूँ। यह रचना २२ दिसम्बर को लिखी गई है। - सरला रवीन्द्र
गुनो नये संतों की बानी
---------------------------------
सुनो राम जी
गुनो नये संतों की बानी
विश्वहाट वे बड़के राजा के सँग जाते
और लौटकर उसके गुन वे घर-घर गाते
कहते-
बदलेंगे हर घर की छप्पर-छानी
उनके लेखे बड़के राजा में गुण सारे
नये वेद रच उनके मंतर ख़ूब प्रचारे
रोती परजा
सुन-सुन उनकी गलतबयानी
रामराज लाने का ठेका उन्हें मिला है
कुछ दिन पहले बना घाट पर सोनकिला है
हुआ तभी से है
निर्मल गंगा का पानी

कोई टिप्पणी नहीं: