शनिवार, 21 अप्रैल 2018

doha salila

दोहा सलिला:
*
पूरी हो या अधूरी, ख्वाहिश हर अनमोल 
श्वास न ले सकते कभी, मोल चुका या तोल 
*
अनुशासन बंधन बिना, भीड़ भोगती दैन्य
अनुशासित हो जीतती, रण हर हरदम सैन्य.
*
नेह नर्मदा नित्य नव, स्नेह सलिल से स्नान
कर के कर में कर कमल, खिलखिल खिल अम्लान
*
दोहा सलिला प्रवाहित, लहरें करें किलोल
छप-छपाक कर भूल जा, कहाँ ढोल में पोल
*
रस का आलिंगन करें, जब-जब मन के भाव
'सलिल' तभी कविता कहे, तुझसे मुझे लगाव
*

रूचि का छंद लिखें सदा, रुचिका करे कमाल
पहले सीख विधान लें, फिर दें मचा धमाल.
*
गति-यति लय में बँध बने, छंद-छंद रस-खान
छंदहीन कविता 'सलिल', मानव बिन ईमान
*
प्रभा विभा आभा लिखें, जी से जी भर छंद.
करें साधना सृजन की, हो गुलाब गुलकंद.
*
२१.४.२०१८

कोई टिप्पणी नहीं: