बुधवार, 4 अप्रैल 2018

kshanika

क्षणिका सलिला *१.
जिनको जाना है,
न रुकेंगे,
वे चले जाएँगे
बाद जाने के मगर
याद बहुत आएँगे
*
२.
कौन हैं हम?
कहें कैसे कि
'नहीं मालुम है?'
साथ बेगम,
कहें कैसे? कि
यही तो गम है.
*





कोई टिप्पणी नहीं: