शनिवार, 28 अप्रैल 2018

श्री श्री चिंतन 3: दोहा गुंजन

श्री श्री चिंतन: 3
आदतें
*
30.7.1995, ब्रुकफील्ड,  कनेक्टीकट,  अमेरिका
आदत हो या वासना,  जकड़ें देतीं कष्ट।
तुम छोड़ो वे पकड़कर,  करती सदा अनिष्ट।।
*
जीवन चाहे मुक्त हो,  किंतु न जाने राह।
शत जन्मों तक भटकती,  आत्मा पाले चाह।।
*
छुटकारा दें आदतें,  करो सुदृढ़ संकल्प।
जीवन शक्ति दिशा गहे, संयम का न विकल्प।।
*
फिक्र व्यर्थ है लतों की, वापिस लेती घेर।
आत्मग्लानि दोषी बना,  करे हौसला ढेर।।
*
लत छोड़ो; संयम रखो,  मिले रोग से मुक्ति।
संयम अति को रोकना,  सुख से हो संयुक्ति।।
*
समय-जगह का ध्यान रख,  समयबद्ध संकल्प।
करो; निभाकर सफल हो, शंका रखो न अल्प।।
*
आजीवन संकल्प मत, करो- न होता पूर्ण।
टूटे याद संकल्प फिर, करो- न रहे अपूर्ण।।
*
अल्प समय की वृद्धि कर,  करना नित्य निभाव।
बंधन में लत बाँधकर,  जय लो बना स्वभाव।।
*
लत न तज सके तो तुम्हें,  हो तकलीफ अपार।
पीड़ाएँ लत छुड़ा दें,  साधक वक् सुधार।।
13.4.2018
***

कोई टिप्पणी नहीं: