शनिवार, 28 अप्रैल 2018

दोहा सलिला

दोहा सलिला
*
क्या-क्यों राधा-भाव है?, कैसे हो अनुमान?
आप आप को भूलकर, आप बनेंं श्रीेमान।।
*
आगम-निगम; पुराण हैं, विश्व ग्यान के कोष।
जो अवगाहे तृप्त हो, मिले आत्म-संतोष।।
*
रंजन करे विवेक जब,  भू पर आ अमरेन्द्र।
सँग सुरेश के श्रवणकर, चाहें हों ग्यानेंद्र।।
*
सुमन-सुरभि सम शब्द में, अर्थ निहित हो आप।
हो विदग्ध उर,  प्रफुल्लित, प्रतुल  भाव परिमाप।।
*
आ अवधेश ब्रजेश संग, राधा-गीता मौन।
मन मथ मन्मथ से कहें, कह प्रवीण है कौन?
*
कल से कल तक निनादित, कलकल ध्वनि कल-कोष।
पल-पल जुड़कर काल हो, अमर आज कर घोष।।
*
कला न कल हो जड़ बने,  श्रुति-स्मृति मत भूल।
बेकल-विकल न हो अकल,  अ-कल न हो शिव-शूल।।
*
सूक्ष्म-वृहद रजकण निहित, गिरि गोवर्धन रूप।
रास-लास जीवन-मरण,  दे-पा भिक्षुक-भूप।।
*
कृष्ण-कांत राधा प्रभा, वाक् और अनुवाक्।
प्रथा चिरंतन-सनातन, छंद छपाक्-छपाक्।।
***
28.4.2018

कोई टिप्पणी नहीं: