गुरुवार, 19 अप्रैल 2018

doha salila

दोहा सलिला:
*
स्मित की रेखा अधर पर, लोढ़ा थामे हाथ।
स्वागत अद्भुत देखकर, लोढ़ा जी नत-माथ।।
*
है दिनेश सँग चंद्र भी, देख समय का फेर
धूप-चाँदनी कह रहीं, यह कैसा अंधेर?
*
एटीएम में अब नहीं, रहा रमा का वास
खाली हाथ रमेश भी, शर्मा रहे उदास
*
वास देव का हो जहाँ, दानव भागें दूर
शर्मा रहे हुजूर क्यों? तजिए अहं-गुरूर
*
किंचित भी रीता नहीं, कभी कल्पना-कोष
जीव तभी संजीव हो, जब तज दे वह रोष
*
दोहा उनका मीत है, जो दोहे के मीत
रीत न केवल साध्य है, सदा पालिए प्रीत
*
असुर शीश कट लड़ी हैं, रामानुज को देख
नाम लड़ीवाला हुआ, मिटी न लछमन-रेख? 
*
आखा तीजा में बिका, सोना सोनी मस्त
कर विनोद खुश हो रहे, नोट बिना हम त्रस्त
*
अवध बसे या बृज रहें, दोहा तजे न साथ
दोहा सुन वर दें 'सलिल' खुश हो काशीनाथ
*
दोहा सुरसरि में नहा, कलम कीजिए धन्य
छंद-राज की जय कहें, रच-पढ़ छंद अनन्य
*
शैल मित्र हरि ॐ जप, काट रहे हैं वृक्ष 
श्री वास्तव में खो रही, मनुज हो रहा रक्ष
*
बिरज बिहारी मधुर है, जमुन बिहारी मौन
कहो तनिक रणछोड़ जू, अटल बिहारी कौन?
*
पंचामृत का पान कर, गईं पँजीरी फाँक। 
संध्या श्री ऊषा सहित, बगल रहे सब झाँक।
*
मगन दीप सिंह देखकर, चौंका सुनी दहाड़
लौ बेचारी काँपती, जैसे गिरा पहाड़
*
श्री धर रहे प्रसाद में, कहें चलें जजमान
विष्णु प्रसाद न दे रहे, संकट में है जान
*

 
१९.४.२०१८ 
श्रीधर प्रसाद द्विवेदी 
सुरसरि सलिल प्रवाह सम, दोहा सुरसरि धार।
सहज सरल रसमय विशद, नित नवरस संचार।।
*
शैलमित्र अश्विनी कुमार
आधा वह रसखान है,आधा मीरा मीर।
सलिल सलिल का ताब ले,पूरा लगे कबीर।
*
कवि ब्रजेश 
सुंदर दोहे लिख रहे, भाई सलिल सुजान।
भावों में है विविधता, गहन अर्थ श्रीमान।।
*
रमेश शर्मा 
लिखें "सलिल" के नाम से, माननीय संजीव!
छंदशास्त्र की नींव हैं, हैं मर्मज्ञ अतीव!!
*

कोई टिप्पणी नहीं: