शुक्रवार, 28 अप्रैल 2017

doha

दोहा दुनिया 
बात से बात 
*
बात बात से निकलती, करती अर्थ-अनर्थ 
अपनी-अपनी दृष्टि है, क्या सार्थक क्या व्यर्थ? 
*
'सर! हद सरहद की कहाँ?, कैसे सकते जान? 
सर! गम है किस बात का, सरगम से अनजान 
 *
'रमा रहा मन रमा में, बिसरे राम-रमेश.
सब चाहें गौरी मिले, हों सँग नहीं महेश.

राम नाम की चाह में, चाह राम की नांय.
काम राम की आड़ में, संतों को भटकाय..
*
'है सराह में, वाह में, आह छिपी- यह देख.
चाह कहाँ कितनी रही?, करले इसका लेख..
*
'गुरु कहना तो ठीक है, कहें न गुरु घंटाल.
वरना भास्कर 'सलिल' में, डूब दिखेगा लाल..' 
 *
'लाजवाब में भी मिला, मुझको छिपा जवाब.
जैसे काँटे छिपाए, सुन्दर लगे गुलाब'.
*
'डूबेगा तो उगेगा, भास्कर ले नव भोर.
पंछी कलरव करेंगे, मनुज मचाए शोर..'
*
'एक-एक कर बढ़ चलें, पग लें मंजिल जीत.
बाधा माने हार जग, गाये जय के गीत.'.
*
'कौन कहाँ प्रस्तुत हुआ?, और अप्रस्तुत कौन?
जब भी पूछे प्रश्न मन, उत्तर पाया मौन.'.
*
तनखा ही तन खा रही, मन को बना गुलाम. 
श्रम करता गम कम 'सलिल', करो काम निष्काम.
*
'पा लागू' कर ले 'सलिल', मिलता तभी प्रसाद
पंडितैन जिस पर सदय, वही रहे आबाद
*
रामानुज सम लक्ष को, जो लेता है साध
रामा-राम भजे वही, लक्ष्मण सम निर्बाध  
*
इन्द्रप्रस्थ पर कर रहे, देखें राज्य नरेंद्र
यह उलटी गंगा बही, बेघर हुए सुरेन्द्र
*
आशा के पग छुए तो, बनते बिगड़े काम
नमन लक्ष्मण को करो, तुरत सदय हों राम
*
माँ भगिनी भाभी सखी, सुता सभी तव रूप
जिसके सर पर हाथ हो, वह हो जाता भूप
*
बड़ा राम से भी अधिक, रहा राम का दास
कहा आप श्री राम ने, लछमन सबसे ख़ास
*
दोहा नैना-दृष्टि हैं, दोहा घूंघट आड़
दोहा बगिया भाव की, दोहा काँटा-बाड़
*
दोहा आशा-रूप है, दोहा भाषा-भाव
दोहा बिम्ब प्रतीक है, मेटे सकल अभाव
*
बेंदा नथ करधन नवल, बिछिया पायल हार
दोहा चूड़ी मुद्रिका, काव्य कामिनी धार
*
पौ फट ऊषा आ गई, हरने तम अंधियार
जहाँ स्नेह सलिला बहे, कैसे हो तकरार?
*
जीते हिंदी के लिए, मरें छंद पर नित्य
सुषमा सौरभ छटाएँ, अगणित अमर अनित्य
*
भोर दुपहरी साँझ भी, रात चाँदनी चंद
नभ सूरज दोहा हुआ, अक्षय ज्योति अमंद
*
धारक-तारक छंद है, दोहा अमृत धार
है अनंत इसकी छटा, 'सलिल' न पारावार
*
दोहा कोमल कली है, शुभ्र ज्योत्सना पांति
छंद पखेरू अन्य यह, राजहंस की भांति
*
जुही चमेली मोगरा, चम्पा हरसिंगार
तेइस दोहा-बाग़ है, गंधों का संसार
*
हिन्दुस्तानी सुरभि है, भारतीय परिधान
दोहा नव आशा 'सलिल', आन-बान सह शान
*
दोहा दुनियादार है, दोहा है दिलदार
घाट नाव पतवार है, दोहा ही मझधार
*
शक-सेना संहार कर, दे अनंत विश्वास
श्री वास्तव में लिए है, खरे मूल्य सह हास
*
ज्यों भोजन में जल रहे, दोहा छंदों बीच
भेद-भाव करता नहीं, स्नेह-सलिल दे सींच
*
छंदों की महिमा अमित, मनुज न सकता जान,
'सलिल' अँजुरी-घूँट ले, नित्य करे रस-पान
*
पग प्रक्षालन कर 'सलिल', छंदों का सौभाग्य
जन्म-जन्म कर साधना, माँग नहीं वैराग्य
*

कोई टिप्पणी नहीं: