रविवार, 16 अप्रैल 2017

bhakti geet

एक रचना
रेवा मैया
*
रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
जग-जीवन की नाव खिवैया
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
भाव सागर से पार लगैया
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
रोग-शोक भव-बाधा टारें
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
सब जनगण मिल जय उच्चारें
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
अमृत जल है जीवनदाता
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
पुण्य अनंत भक्त पा जाता
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
ब्रम्हा-शिव-हरि तव गुण गायें
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
संत असुर सुर नर तर जाएँ
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
विन्ध्य, सतपुड़ा, मेकल हर्षित
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
निंगादेव हुए जन पूजित
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
नरसिंह कनककशिपु संहारे
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
परशुराम ने क्षत्रिय मारे
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
राम-सिया तव तीरे आये
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
हनुमत-जामवंत मिल पाए
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
बाणासुर ने रावण पकड़ा
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
काराग्रह में जमकर जकड़ा
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
पांडवगण वनवास बिताएँ
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
गुप्तेश्वर के यश जन गायें
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
गौरी घाट तीर्थ अतिसुन्दर
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
घाट लम्हेटा परम मनोहर
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
तिलवारा बैठे तिल ईश्वर
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
गौरी-गौरा भेड़े तप कर
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
धुआंधार में कूद लगाई
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
चौंसठ योगिनी नाचें माई
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
संगमरमरी छटा सुहाई
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
नौकायन सुख-शांति प्रदाई
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
बंदर कूदनी कूदे हनुमत
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
महर्षि-ओशो पूजें विद्वत
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
कलकल लहर निनाद मनोहर
             रेवा मैया! रेवा मैया!!
*
हो संजीव हरो विपदा हर
            रेवा मैया! रेवा मैया!!
***

कोई टिप्पणी नहीं: