शनिवार, 29 अप्रैल 2017

hindi-sindhi salila

 [आमने-सामने, हिंदी-सिन्धी काव्य संग्रह, संपादन व अनुवाद देवी नागरानी
शिलालेख, ४/३२ सुभाष गली, विश्वास नगर, शाहदरा दिल्ली ११००३२. पृष्ठ १२६, २५०/-]
पृष्ठ ८४-८५















१. शब्द सिपाही १. लफ्ज़न जो सिपाही
* *
मैं हूँ अदना माँ आहियाँ अदनो
शब्द सिपाही. लफ्ज़न जो सिपाही.
अर्थ सहित दें अर्थ साणु डियन
शब्द गवाही. लफ्ज़ गवाही.
* *
२. सियासत २. सियासत
तुम्हारा हर तुंहिंजो हर हिकु सचु
सच गलत है. गलत आहे.
हमारा हर मुंहिंजो
सच गलत है हर हिकु सचु गलत आहे
यही है इहाई आहे
अब की सियासत अजु जी सियासत
दोस्त ही दोस्त ई
करते अदावत कन दुश्मनी
* *

कोई टिप्पणी नहीं: