सोमवार, 3 जुलाई 2017

dwipadi

द्विपदी
*
जब तलक मालूम नहीं था, तभी तक मालूम था
जब से कुछ मालुम हुआ तब से न कुछ मालूम है
*

कोई टिप्पणी नहीं: