मंगलवार, 25 जुलाई 2017

kavyanuvaad

अनुवाद सलिला
मूल रचना: महादेवी वर्मा
अंग्रेजी काव्यानुवाद: बीनू भटनागर












*
मैं नीर भरी दुख की बदली!
.
स्पंदन में चिर निस्पंद बसा,
क्रंदन में आहत विश्व हँसा,
नयनों में दीपक से जलते,
पलकों में निर्झणी मचली!
.
मेरा पग पग संगीत भरा,
श्वासों में स्वप्न पराग झरा,
नभ के नव रंग बुनते दुकूल,
छाया में मलय बयार पली!
.
मैं क्षितिज भृकुटि पर घिर धूमिल,
चिंता का भार बनी अविरल,
रज-कण पर जल-कण हो बरसी,
नव जीवन-अंकुर बन निकली!
.
पथ न मलिन करता आना,
पद चिह्न न दे जाता जाना,
सुधि मेरे आगम की जग में,
सुख की सिहरन हो अंत खिली!
.
विस्तृत नभ का कोई कोना,
मेरा न कभी अपना होना,
परिचय इतना इतिहास यही,
उमड़ी कल थी मिट आज चली!
.











I am a wet cloud of sorrow
.
My vibrations rest on eternal still,
The world laughed when I cried
My eyes burn like lamps
A cascade fell from eyelashes.
.
Every step of mine is full of music.
Pollen of my dreams came out with breath
New colors weave shiny silk in the sky
In its shadow fragrant breeze is raised.
.
Mist covered my eyebrows at horizon
I remained the cause of ongoing worry.
On the particle of sand I dropped a water- drop.
A life sprouted and started growing
.
I don’t make the path filthy
I do not leave foot prints when I go
Everyone is happy at my arrival
I give immense joy to all.
.
I do not have my own corner in the sky
The sky that is so vast and gigantic
This is my introduction, my history
Today I am here tomorrow gone!
***
#दिव्यनर्मदा
#हिंदी_ब्लॉगर 

1 टिप्पणी:

Amit g dave Amit ने कहा…

Divy narmada jindi patrika ka free seva kya he.?Government Angejiki gilam he.kya kate.andher