सोमवार, 5 नवंबर 2018

navgeet- avinash beohar

नवगीत:
अविनाश ब्यौहार
*
हर सू इस शहर
में क्रन्दन है!
*
आब हवा
बदली-बदली है!
सभ्यता दूषित
गंदली है!!

भाईचारा होने में
भी निबन्धन है!
*
निराशाओं के अब्र 
घने हैं!
सपने सारे
धूल सने हैं!!

तपन दिखाता
मलयागिरी चन्दन है!
*
रायल एस्टेट कटंगी रोड
जबलपुर

कोई टिप्पणी नहीं: