शुक्रवार, 9 नवंबर 2018

नवगीत- लछमी मैया

नवगीत
*
लछमी मैया!
भाव बढ़ रहे, रुपया गिरता
दीवाली है।
*
धन तेरस पर
निर्धन पल-पल देश क्यों हुआ
कौन बताए?
दीवाली पर
दीवाला ही यहाँ हो रहा?
राम बचाए।
सत्ता चाहे
हो विपक्ष से रहित तंत्र तो
जी भर लूटे।
कहे विपक्षी
लूटपाट कर तंत्र सो रहा
छाती कूटे।
भरा बताते 
किन्तु खज़ाना और तिजोरी 
तो खाली है।
*
डाका डालें 
जन के धन पर नेता-अफसर
कौन बचाए?

सेठ-चिकित्सक, न्याय व्यवस्था 

सत्ता चाहे
हो विपक्ष से रहित तंत्र यह
कहे विपक्षी
लूटपाट कर तंत्र सो रहा
भरा दिखाते
किन्तु खज़ाना और तिजोरी 
तो खाली है।
*


कोई टिप्पणी नहीं: