सोमवार, 5 नवंबर 2018

navgeet

नवगीत
गंधों की डोली 
अविनाश ब्यौहार
*
उठती है
गंधों की डोली
अब तारों
की छाँव में!
*
फूलों पर रंगत
और आ गया हिजाब!
कलरव करें पंछी सा
आँखों मे ख्वाब!!
खेत, मेड़, 
खलिहान, बगीचे
मनोहारी हैं
गाँव में!
*
बागों में होती
अलियों की
गुनगुन है!
आती दूर कहीं से
रबाब की धुन है!!
है मिले सुकूं
भटकी हवाओं को
पीपल की 
ठाँव में!!
*
- रायल एस्टेट कटंगी रोड
जबलपुर

कोई टिप्पणी नहीं: