शनिवार, 24 नवंबर 2018

कुंडलिनी

नव प्रयोग
कुंडलिनी छंद
*
आँख आँख में डाल, चलो करें अब बात हम।
चुरा-झुकाकर आँख,  करें न निज विश्वास कम।।
करें न निज विश्वास कम, चलो निवारण हाथ।
काया-छाया की तरह,  हों उजास में साथ।।
अंधकार में एक हों, मिला चोंच अरि पाँख।
चलो करें अब बात हम, मिला आँख से आँख।।
***
संजीव,

२४-११-२०१८

कोई टिप्पणी नहीं: