सोमवार, 26 नवंबर 2018

राम दोहावली 
*
राम आत्म परमात्म भी, राम अनादि-अनंत।
चित्र गुप्त है राम का, राम सृष्टि के कंत।।
विधि-हरि-हर श्री राम हैं, राम अनाहद नाद।
शब्दाक्षर लय-ताल हैं, राम भाव रस स्वाद।।
राम नाम गुणगान से, मन होता है शांत।
राम-दास बन जा 'सलिल', माया करे न भ्रांत।। 
२६.११.२०१४ 
राम आम के खास के, सबके मालिक-दास।                                                                                                                                      राम कर्म के साथ हैं, करते सतत प्रयास।। 
वाम न राम से हो सलिल, हो जाने दे पार।                                                                                                                                            केवट के सँग मिलेगा, तुझको सुयश अपार।।
राम न सहते गलत को, राम न रहते मौन।                                                                                                                                        राम न कहते निज सुयश, नहीं जानता कौन?                                                                                                                                 
राम न बाधा मानते, राम न करते बैर।                                                                                                                                            करते हैं सत्कर्म वे, सबकी चाहें खैर।।
२६.११.२०१८       

कोई टिप्पणी नहीं: