शुक्रवार, 22 मार्च 2019

chunavi muktak

चुनावी मुक्तक 
'दिग्गी राजा' भटक रहा है, 'योगी' को सिंहासन अर्पण 
बैठ न गद्दी बिठलाता है, 'शाह' निराला करे समर्पण 
आ 'अखिलेश' बधाई दें, हँस कौतुक से देखा 'नरेंद्र' ने 
साइकिल-पंजा-हाथी का मिल जनगण ने कर डाला तर्पण 

२२.३.२०१७
**

कोई टिप्पणी नहीं: