गुरुवार, 21 मार्च 2019

मुक्तक

मुक्तक 
नव वर्षोत्सव मंगलमय हो। 
माँ की कृपा अमित-अक्षय हो।।                                                                                                    
करें साधना सद्भावों की,
नित नव रचनाएँ निर्भय हों।।                                                                                                             *

कोई टिप्पणी नहीं: