शुक्रवार, 22 मार्च 2019

मुक्तिका खर्चे अधिक

मुक्तिका 
*
खर्चे अधिक आय है कम. 
दिल रोता आँखें हैं नम.. 
*
पाला शौक तमाखू का.
बना मौत का फंदा यम्..
*
जो करता जग उजियारा
उस दीपक के नीचे तम..
*
सीमाओं की फ़िक्र नहीं.
ठोंक रहे संसद में ख़म..
*
जब पाया तो खुश न हुए.
खोया तो करते क्यों गम?
*
टन-टन रुचे न मन्दिर की.
रुचती कोठे की छम-छम..
*
वीर भोग्या वसुंधरा
'सलिल' रखो हाथों में दम.. 

२२.३.२०१७ 
************

कोई टिप्पणी नहीं: