शुक्रवार, 22 मार्च 2019

दो पदी

एक दो पदी 
कांत सफलता पाते तब ही, रहे कांति जब साथ सदा 
मिले श्रेय जब भी जीवन में, कांता की जयकार लिखें
२२.३.२०१७ 

कोई टिप्पणी नहीं: