शुक्रवार, 22 मार्च 2019

हास्य कविता

हास्य कविता
*
कविता कविता जप रहे, 
नासमिटी है कौन?
पूछ रहीं श्रीमती जी, 
हम भय से हैं मौन।
हम भय से हैं मौन, 
न ताली आप बजाएँ।
दुर्गा काली हुई,
किस तरह जान बचाएँ।
हाथ जोड़, पड़ पैर,
मनाते खुश हो सविता।
लाख कहे मिथलेश,
ऩ लिखना हमको कविता।।

२२.३.२०१८ 
***

कोई टिप्पणी नहीं: