सोमवार, 25 मार्च 2019

doha

दोहा
जितना पाया खो दिया, जो खोया है साथ। 
झुका उठ गया, उठाया झुकता पाया माथ।। 
*

कोई टिप्पणी नहीं: