सोमवार, 8 अक्तूबर 2018

doha-yamak

दोहा-यमक  
*
सजा न दे पर सजा दे, सजना सजनी चाह 
पलक पाँवड़े बिछाए, हेर रही है राह 
*

कोई टिप्पणी नहीं: