रविवार, 7 अक्तूबर 2018

muktak

मुक्तक
*
चुप्पियाँ बहुधा बहुत आवाज़ करती हैं
बिन बताये ही दिलों पर राज करती हैं
बनीं-बिगड़ी अगिन सरकारें कभी कोई
आम लोगों का कहो क्या काज करती हैं?
*

कोई टिप्पणी नहीं: