शनिवार, 13 अक्तूबर 2018

vedokt ratri sukta


यह वेदोक्त रात्रि सूक्त है
*
नमन​ रात्रि! करतीं प्रगट, देश काल जड़-जीव।
यथोचित​ दें कर्म-फल, जय माँ! करुणासींव।१।​
*
ओ​ देवी! हो अमर तुम, उछ-अधम में व्याप्त।
नष्ट​ करो अज्ञान को, ज्ञान-ज्योति 'थिर आप्त।२।
*
पराशक्ति रजनी करें, प्रगट उषा को नित्य।
नष्ट अविद्या-तिमिर हो, प्रगटे ज्ञान अनित्य।३।​
*
प्रगटें​ खुश हों रात्रि माँ!, ​कर सुख-निद्रा लीन।
ज्यों​ कोटर में खग हुए, मिश्रित अभय अदीन।४।
*
रजनी माँ के अंक में, शयन करें सुख-धार।
पशु-पक्षी, ग्रामीणजन, पथिक भूल व्यापार।५।
*
​वृकी वासना; पाप वृक, माँ राका! कर दूर।
मोक्ष​दायिनी! कर कृपा, ​दो निद्रा भरपूर।६।
*
उषा! रात्रि!! अज्ञान-तम, घेरे है चहुँ ओर। ​
​ऋणवत मुझसे दूर कर, दो; लूँ ज्ञान अँजोर।७।
*
धेनु​ दुधारू सदृश हो, रात्रि! रहो अनुकूल।
मिली कृपा हूँ अरिजयी, लो स्तोम-दुकूल।८। ​
​*
(​स्तोम​ = स्तुति)

कोई टिप्पणी नहीं: