शनिवार, 6 अक्तूबर 2018

karya shala- doha / rola / kundaliya

कार्यशाला-
दोहा / रोला / कुण्डलिया
शब्द-शब्द प्रांजल हुए, अनगिन सरस श्रृंगार।
सलिल सौम्य छवि से द्रवित, अंतर की रसधार।।-अरुण शर्मा                                                                                                  अंतर की रसधार,  न सूखे स्नेह बढ़ाओ।                                                                                                                          मिले शत्रु यदि द्वार, न छोड़ो मजा चखाओ।।                                                                                                                      याद करे सौ बरस, रहकर वह बे-शब्द।                                                                                                                               टेर न पाए खुदा को, बिसरे सारे शब्द।।              - संजीव  
*** 

कोई टिप्पणी नहीं: