गुरुवार, 4 अक्तूबर 2018

कार्यशाला

​कार्यशाला- दोहा / रोला / कुण्डलिया 
रोगों से बचना अगर, पैदल चलिए रोज ।
मन में रहे प्रसन्नता, तन में रहता ओज ।। ​-कैलाश गिरि गोस्वामी ​                                           
तन में रहता ओज, समय पर खाएँ भोजन।                                                                                करें शयन से पूर्व, ईश-महिमा का गायन।।                                                                                 बस संयम-'कैलाश', बचे रहिए रोगों से।                                                                                    बनें जीव 'संजीव' रहिए रोगों से भोगों से।।​ -संजीव 'सलिल'​ 

कोई टिप्पणी नहीं: