मंगलवार, 2 अक्तूबर 2018

radhika chhand

कार्य शाला
राधिका छंद
*
लक्षण: बाईस मात्रिक द्विपदिक समतुकांती छंद।
विधान: १३, ९ पर यति, पदांत यगण या मगण। 
*
लक्षण छंद:
तेरा पै सज नव कला, राधिका रानी।
लखि रूप अलौकिक मातु, कीर्ति हरखानी।।
कहुं बर याके अनुहार, अहै बृजबाला।
सुनि सब कहतीं व्हें मुदित, एक नंदलाला।। -जगन्नाथप्रसाद 'भानु', छंद प्रभाकर
उदाहरण-
१.  हा आर्य! भारत का भाग्य, रजोमय ही है। 
    उर रहते उर्वी उसे, तुम्हीं ने दी है।। 
    उस जड़ जननी का विकृत, वचन तो पाला।
    तुमने इस जन की ओर, न देखा भाला।।   -मैथिलीशरण गुप्त, साकेत 
२. सब सुधि-बुधि गइ क्यों भूलि, गई मति मारी।
    माया को चेरो भयो, भूल असुरारी।।
    कटि जैहें भव के फंद, पाप नसि जाई।
    रे! सदा भजौ श्रीकृष्ण-राधिका माई।।    -जगन्नाथप्रसाद 'भानु', छंद प्रभाकर 
टिप्पणी-पदांत के दो या एक गुरु को लघु में बदलने से छंद बदल जाएगा।  

कोई टिप्पणी नहीं: