शुक्रवार, 5 अक्तूबर 2018

karyashala doha / rola / kundaliya

कार्यशाला- दोहा / रोला/ कुण्डलिया
मन का डूबा डूबता , बोझ अचिन्त्य विचार ।
चिन्तन का श्रृंगार ही , देता इसे उबार ॥         -
शंकर ठाकुर चन्द्रविन्दु                                                                                              देता इसे उबार, राग-वैराग साथ मिल।                                                                                                                                            तन सलिला में कमल, मनस का जब जाता खिल                                                                                                                    चंद्रबिंदु शिव भाल, सोहता सलिल-धार बन।                                                                                                                               उन्मन भी हो शांत, लगे जब शिव-पग में मन।  -संजीव वर्मा 'सलिल'

***
५.१०.२०१८ 

कोई टिप्पणी नहीं: