रविवार, 7 अक्तूबर 2018

karya shala- doha/rola/kundaliya

कार्यशाला- दोहा / रोला / कुण्डलिया
*
सलिल सिक्त दोहे सभी , अतिशय गरिमावान। नमन लेखनी को करूँ , रचना का गुणगान॥ -शंकर ठाकुर चंद्रविंदु रचना का गुणगान, करें ठाकुर जी विस्मय। ठाकुर रचनाकार, जगत के वर दें अक्षय।। शंकर कंकर बसें, चंद्र बिंदु धारे अभी। अतिशय गरिमावान, सलिल-सिक्त दोहे सभी।।-संजीव
***
७.१०.२०१८

कोई टिप्पणी नहीं: