बुधवार, 6 मार्च 2019

नवगीत

एक रचना
सोते-सोते
*
सोते-सोते
बहें न सोते
या अपनी किस्मत को रोते?
सोच, समय कन्फ्यूज।
*
ब्यौहारी ब्यौहार निभाएँ
त्यौहारी त्यौहार मनाएँ
विजय हेतु मरते सैनिक पर
नेता-कवि मिल विजय भुनाएँ
असरदार को कोस रहे, खुद
असरदार बन लोग
देख समय कन्फ्यूज
*
सलिल-धार में नहा-नहाकर
घी-बाती के दीप बहाकर
करें गौकशी बिना छुरा क्यों
पॉलीथीन के ढेर लगाकर?
संत असंत बसंत मनाएँ
लाइलाज है रोग
लेख समय कन्फ्यूज
***
संवस, ६-३-२०१९

कोई टिप्पणी नहीं: