सोमवार, 11 मार्च 2019

वर्ण पिरामिड

वर्ण पिरामिड
१.
'रे
नर!'
वानर
बोल पड़ा
'अभिनंदन
कर, मैं हूँ तेरा
पुरखा सचमुच।'
*
२.
है
छाया
काया से
ज्यादा लंबी,
मत समझो
महत्वपूर्ण है
केवल लंबाई ही।
*
संजीव

कोई टिप्पणी नहीं: