सोमवार, 11 मार्च 2019

कुंडलिया

फागुनी कुंडलिया
*
केसरिया किंशुक कुसुम, अँजुरी भर उल्लास।
फागुन फगुनाहट लिए,  अधराधर पर हास।।
अधराधर पर हास, बाँह में बाँह समाए।
अंतर से अंतर कर, अंतर दूर मिलाए।।
कली-फूल तज द्वैत, वरें अद्वैत दे जिया।
अंजुरी भर उल्लास, कुसुम किंशुक केसरिया।।
***
संजीव
११-३-२०१८

कोई टिप्पणी नहीं: