बुधवार, 3 जून 2015

नवगीत:

पाती अमराई के नाम
संजीव
*
पाती अमराई के नाम
भेजी खलिहानों ने
*
गदरायी अमियों को भीड़
तन रहे गुलेल सकें छेड़
संयम के ऊसर है खेत
बहक रहे पैर तोड़ मेड़
ढोलक ने,
मादल ने,
घुंघरू ने,
पायल ने
क्ज्रो की बिसरायी तान
पनघट-दालानों ने
पाती अमराई के नाम
भेजी खलिहानों ने
*
चेहरों से गुम रंगत
अब न ख़ुशी की संगत
भावी को भाती नहीं
अब अतीत की संगत
बादल ने,
बिजली ने,
भँवरों ने,
तितली ने
तानी है काम की कमान
मुकुलित बागानों ने
पाती अमराई के नाम
भेजी खलिहानों ने
*
परिवर्तन की आहट
खो-पाने की चाहत
सावन में भादों क्यों
चाह रहा फगुनाहट
सरगम ने,
परचम ने,
कोशिश ने,
बम-बम ने
किस्मत की थामी लगाम
 जनगण ने हाथों ने
पाती अमराई के नाम
भेजी खलिहानों ने
*

  

कोई टिप्पणी नहीं: