बुधवार, 13 मार्च 2019

दोहा

दोहा 
जब भी पाओ समय तो, करलो तनिक विनोद.
'सलिल' भूलकर फ़िक्र सब, हो आमोद-प्रमोद..
*
'सलिल' बड़ों ने सच कहा, न दो किसी को दोष. 
बढ़ो सतत निज राह पर, मन में रख संतोष..
*

कोई टिप्पणी नहीं: