बुधवार, 4 सितंबर 2013

kundali : -sanjiv

एक कुंडली:
संजीव 
*
कुसुम बिना उद्यान हो, गंधहीन बेरंग
काँटों को भाता नहीं, 'सलिल' कुसुम का संग
'सलिल' कुसुम का संग, कृष्ण आनंद मनाये
जन्म-अष्टमी का आनंद, दुगना हो जाये
गरिमा जितनी अधिक नम्र उतने ही हो तुम
देता है सन्देश बाग़ में खिला हर कुसुम
*

कोई टिप्पणी नहीं: