सोमवार, 29 अप्रैल 2019

मुक्तक

मुक्तक:
*
जो दूर रहते हैं वही तो पास होते हैं.
जो हँस रहे, सचमुच वही उदास होते हैं.
सब कुछ मिला 'सलिल' जिन्हें अतृप्त हैं वहीं-
जो प्यास को लें जीत वे मधुमास होते हैं.
२९.४.२०१०
*

कोई टिप्पणी नहीं: