मंगलवार, 23 अप्रैल 2019

मुक्तिका

मुक्तिका :
संजीव 'सलिल' 
*
राजनीति धैर्य निज खोती नहीं. 
भावनाओं की फसल बोती नहीं..
*
स्वार्थ के सौदे नगद होते यहाँ.
दोस्ती या दुश्मनी होती नहीं..
*
रुलाती है विरोधी को सियासत
हारकर भी खुद कभी रोती नहीं..
*
सुन्दरी सत्ता की है सबकी प्रिया.
त्याग-सेवा-श्रम का सगोती नहीं..
*
दाग-धब्बों की नहीं है फ़िक्र कुछ.
यह मलिन चादर 'सलिल' धोती नहीं..
*

२३.४.२०१० 

कोई टिप्पणी नहीं: