सोमवार, 15 अप्रैल 2019

दोहा

दोहा
*
नर से वानर जब मिले, रावण का हो अंत.
'सलिल' न दानव मारते, कभी देव या संत..
*
अक्षर की आराधना, हो जीवन का ध्येय.
सत-शिव-सुंदर हो 'सलिल', तब मानव को ज्ञेय..
*
सत-चित-आनंद पा सके, नर हो अगर नरेंद्र.
जीवन की जय बोलकर, होता जीव जितेंद्र..
*
१५.४.२०१०

कोई टिप्पणी नहीं: