सोमवार, 15 अप्रैल 2019

प्यार के दोहे

प्यार के दोहे: 
तन-मन हैं रथ-सारथी: 
संजीव 'सलिल' 
*
दो पहलू हैं एक ही, सिक्के के नर-नार। 
दोनों में पलता सतत, आदि काल से प्यार।।
*
प्यार कभी मनुहार है, प्यार कभी तकरार।
हो तन से अभिव्यक्त या, मन से हो इज़हार।।
*
बिन तन के मन का नहीं, किंचित भी आधार।
बिन मन के तन को नहीं, कर पाते स्वीकार।।
*
दो अपूर्ण मिल एक हों, तब हो पाते पूर्ण।
अंतर से अंतर मिटे, हों तब ही संपूर्ण।।
*
जब लेते स्वीकार तब, मिट जाता है द्वैत।
करते अंगीकार तो, स्थापित हो अद्वैत।।
*

१५.४.२०१० 

कोई टिप्पणी नहीं: