शनिवार, 27 अप्रैल 2019

तेवरी

तेवरी :
हुए प्यास से सब बेहाल
-'सलिल'.
*
हुए प्यास से सब बेहाल. 
सूखे कुएँ नदी सर ताल..
गौ माता को दिया निकाल.
श्वान रहे गोदी में पाल..
चमक-दमक ही हुई वरेण्य.
त्याज्य सादगी की है चाल..
शंकाएँ लीलें विश्वास.
डँसते नित नातों के व्याल..
कमियाँ दूर करेगा कौन?
बने बहाने हैं जब ढाल..
मौन न सुन पाए जो लोग.
वही बजाते देखे गाल..
उत्तर मिलते नहीं 'सलिल'.
अनसुलझे नित नए सवाल.. 
२७-४-२०१०
*

कोई टिप्पणी नहीं: