रविवार, 21 अप्रैल 2019

चित्र पर कविता चित्र - अनुप्रिया, कविता संजीव

चित्र पर कविता
चित्र - अनुप्रिया, कविता संजीव

फ़ोटो का कोई वर्णन उपलब्ध नहीं है.

चीर तिमिर को प्रकट हुई शुचि काव्य कामिनी।
दिप-दिप दमक रही मेघों में दिव्य दामिनी।
दिखती लुकती चपल चंचला मन भरमाती-

उषा-साँझ सखियों सह शोभित 'सलिल' यामिनी।।

कोई टिप्पणी नहीं: