शुक्रवार, 8 फ़रवरी 2019

दोहा वैलेंटाइन

दोहा वैलेंटाइन
उषा दुपहरी सांझ से, पाल रहा जो प्रीत. 
छलिया सूरज को कहे, जग क्यों 'सलिल' पुनीत?.
८.२.२०१० 

कोई टिप्पणी नहीं: