गुरुवार, 23 अप्रैल 2015

muktak: sanjiv

मुक्तक:
संजीव 
.
आसमान कर रहा है इन्तिज़ार 
तुम उड़ो तो हाथ थाम ले बहार 
हौसलों के साथ रख चलो कदम 
मंजिलों को जीत लो, मिले निखार
*

कोई टिप्पणी नहीं: