गुरुवार, 9 अप्रैल 2015

haiku: baans -sanjiv

हाइकु
बाँस
संजीव
.
वंशलोचन
रहे-रखे निरोग
ज़रा मोचन

कोई टिप्पणी नहीं: