बुधवार, 3 अप्रैल 2019

दोहा यमक, श्लेष, अनुप्रास

दोहा में अलंकार
खास-ख़ास बतला रहे, आया आम चुनाव।
ताव-भाव मत माँगते, मत दें भूख-अभाव।।
*
मिला भाग से भाग, गुणा-भाग कर भाग मत।
ले जो भाग सुभाग, उससे दूर न भागता।।
*
भाग = किस्मत, हिस्सा, हिसाब-किताब, दूर जाना, भाग लेना, सौभाग्य, अलग होता।
संवस, ३-४-२०१९
======
छंद सोरठा
अलंकार यमक
*
आ समान जयघोष, आसमान तक गुँजाया
आस मान संतोष, आ समा न कह कराया 
***
छंद सोरठा
अलंकार श्लेष
सूरज-नेता रोज, ऊँचाई पा तपाते
झुलस रहे हैं लोग, कर पूजा सर झुकाते
***
छंद दोहा
अलंकार वृत्यानुप्रास
*
अजर अमर अक्षर अजित, अविनाशी अमिताभ।
अचल अटल असुरारि अज, अलख अजल अजिताभ।।
***
अजय अभय अविकल अतुल, अविचल अतल असार।
अचर अनल अवसर अगम, अक्षु असर अबरार।।
***

संवस
१.४.२०१९
एक दोहा
*
सुन पढ़ सीख समझ जिसे, लिखा साल-दर साल।
एक निमिष में पढ़ लिया?, सचमुच किया कमाल।।
***
संवस
७९९९५५९६१८

 

कोई टिप्पणी नहीं: