बुधवार, 6 फ़रवरी 2019

नवगीत:

एक रचना
*
चौकीदार
मछलियों के
मछुआरे बन बैठे।
*
मगर कह रहा
मेंढक-मुक्त
कराना है तालाब।
खतरा बहुत
झींगुरों से कह
मार-मार ऐंठे।
*
प्रभु तंबू में
आश्रम में
भगतन करती है मौज।
देख प्रसाद
मंदिरों में
मूषक पंडे पैठे।
*
'मी टू' करे
शिकायत रजनी
सूरज थाने में।
थानेदार
बना बादल
धमकाता है ठें-ठें।
*
संजीव, ६.२.२०१८

कोई टिप्पणी नहीं: