गुरुवार, 7 फ़रवरी 2019

कार्यशाला: दोहा में यमक और श्लेष

कार्यशाला: 
दोहा में यमक और श्लेष 
*
नारी पाती दो जगत, जब हो कन्यादान 
पाती है वरदान वह, भले न हो वर-दान 
*

कोई टिप्पणी नहीं: