सोमवार, 10 दिसंबर 2018

soratha

 एक सोरठा: 
उद्यम से हो सिद्ध, कार्य मनोरथ से नहीं।
'सलिल, लक्ष्य हो बिद्ध, सतत निशाना साधिए।।
*

कोई टिप्पणी नहीं: