रविवार, 2 दिसंबर 2018

चित्रगुप्त

चित्रगुप्त वंदना: १
धन-धन भाग हमारे
*
धन-धन भाग हमारे, प्रभु द्वार पधारे। 
शरणागत को ट्रेन, प्रभु द्वार पधारे....

माटी तन, चंचल अंतर्मन,
पारस हो प्रभु कर दो कंचन।
जनगण-प्राण पुकारे,
प्रभु द्वार पधारे....

प्रीत की रीत सदैव निभाई,
लाज भगत की दौड़ बचाई।
कबहुँ न मन से बिसारें,
प्रभु द्वार पधारे....

मिथ्या जग की तृष्णा-माया,
अक्षय प्रभु की अमृत छाया।
'सलिल' ईश-जय गा रे!
प्रभु द्वार पधारे....

संजीव
७९९९५५९६१८  

कोई टिप्पणी नहीं: